मुज़फ़्फ़रपुर में मिला नर कंकालों का ढेर


मुजफ्फरपुर का श्रीकृष्ण मेडिकल कॉलेज अस्पताल जहां महामारी का रूप ले रहे एक्यूट इंसेफ़िलाइटिस सिंड्रोम से पीड़ित सैकड़ों बच्चों का इलाज चल रहा है और जहां 150 से अधिक बच्चों की मौत इस बीमारी से हो चुकी है, वहां के अस्पताल परिसर में रविवार को नरकंकाल मिलने से हड़कंप मच गया.

प्लास्टिक की बोरी में भर कर रखे गए नरकंकाल एसकेसीएचएम के वन क्षेत्र में मिले. मीडिया में ख़बर आने के बाद स्वास्थ्य विभाग हरकत में आया और विभाग के एडिशनल सेक्रेटरी कौशल किशोर ने अस्पताल प्रशासन को तलब कर रिपोर्ट मांगी.

परिसर की जांच डीएम आलोक रंजन घोष के नेतृत्व में मुज़फ़्फ़रपुर पुलिस ने की. यहां कई बोरियों में भरकर रखे नरकंकाल बरामद किए गए.

इसके बाद अस्पताल प्रशासन की ओर से भी एक विशेष जांच दल का गठन किया है. अस्पताल अधीक्षक डॉ एसके शाही और प्राचार्य की संयुक्त टीम जांच में लग गई है.

मुजफ़्फ़रपुर के डीएम आलोक रंजन घोष ने बीबीसी को बताया. “प्रथम दृष्टया जांच और अस्पताल प्रबंधन से पूछताछ में यह निकल कर आया है कि नरकंकाल लावारिस शवों के थे. इसी महीने की 17 तारीख को अस्पताल प्रबंधन ने 19 लावारिस शवों का अंतिम संस्कार किया था. प्रबंधन का कहना है कि ये नरकंकाल उन्हीं शवों के हैं.”