साक्षात्कार शुरू करने व विज्ञापन करने को लेकर चयन बोर्ड पर जमकर हुआ हंगामा

27जुलाई 2020 प्रयागराज , माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड पर युवा मंच के अध्यक्ष अनिल सिंह के नेतृत्व में प्रतियोगी छात्रों ने टी जी टी /पी जी टी -2016 के साक्षात्कार को शुरू करने ,40,000 खाली पदों के विज्ञापन जारी करने,जीवविज्ञान की परीक्षा तिथि घोषित करने तथा सभी लंबित परिणाम तत्काल घोषित करने को लेकर जम कर हंगामा किया प्रतियोगी छात्रों का कहना था कि 16 जुलाई को उप सचिव नवल किशोर जी ने यह कहा था कि 25जुलाई 2020तक साक्षात्कार शुरू करने सहित सभी मामले पर बैठक कर निस्तारण कर दिया जाएगा लेकिन ऐसा न होने से आक्रोशित प्रतियोगी छात्रों ने जमकर अध्यक्ष के खिलाफ नारे बाजी की फिर भी चयन बोर्ड से कोई भी जब नहीं आया तो हंगामा शुरू कर दिया युवा मंच के अध्यक्ष अनिल सिंह ने तत्काल
C Oकर्नलगंज को फोन कर माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन एलनगंज पर बुलाया तब जाकर चयन बोर्ड के अध्यक्ष वीरेश कुमार राय जी की अनुपस्थिती में उप सचिव नवल किशोर जी ने आकर ज्ञापन लिया और आश्वस्त किया कि साफ्टवेयर को बनाने में देरी होने के कारण साक्षात्कार का सिड्यूल जारी नहीं हुआ वरना कर दिया जाता जल्द ही इसी सप्ताह में सिडूल जारी कर दिया जाएगा और 20अगस्त 2020से पहले साक्षात्कार शुरू कर दिया जाएगा ,विज्ञापन को लेकर साफ्टवेयर तैयार किया जा रहा है अगर कोई व्यवधान नहीं आया तो 15से20दिन में साफ्टवेयर बनकर तैयार हो जाएगा साफ्टवेयर तैयार होते ही विज्ञापन जारी कर दिया जाएगा ।जीवविज्ञान की लम्बित परीक्षा के सम्बन्ध में अध्यक्ष महोदय सीघ्र ही निर्णय लेगें क्योंकि सेन्टर निर्धारण का निर्णय उन्हें ही लेना है,सभी लंबित परिणाम यथा शीघ्र घोषित कर दिया जाएगा श्रीसिंह ने चयन बोर्ड को चेतावनी दी है कि इस बार यदि हीला हवाली हुई तो 20 अगस्त को आमरण अनशन की दी है चेतावनी ज्ञापन देते समय युवा मंच के अध्यक्ष अनिल सिंह, विनय सिंह, मनीष कुमार, महेश पाल,सुनील भारतीय, ओपी यादव ,विनोद पाण्डेय, प्रदीप कुमार, आदि सैकड़ों छात्र उपस्थित रहे ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>