दिल्ली: चवन्नी-अठन्नी में खरीदा डेटा, 350 लोगों को ठगा

जरा सोचिए कि आपकी निजी जानकारी की कीमत क्या हो सकती है. सरकार भले ही निजी जानकारियों के लीक होने की बात को झुठलाती रही हो. लेकिन एक ऐसा मामला सामने आया है, जहां लोगों की निजी जानकारियां 5 पैसे से लेकर 50 पैसे तक बिक रही थीं. दिल्ली पुलिस ने एक गिरोह का भंडाफोड़ किया है, जिसने अब तक कथित तौर पर कम प्रीमियम में हेल्थ इंश्योरेंस मुहैया कराने के नाम पर 350 लोगों के साथ धोखाधड़ी की. पुलिस ने पिछले हफ्ते दो महिलाओं को गिरफ्तार किया था, जिन्होंने पूछताछ में हैरतअंगेज खुलासे किए हैं. ये महिलाएं कॉल सेंटर के कर्मचारियों से 5 पैसे से 50 पैसे प्रति कॉन्टैक्ट के हिसाब से ग्राहकों का डेटाबेस खरीदती थीं.

पिछले हफ्ते साइबर सेल ने एक नकली कॉल सेंटर का पर्दाफाश किया था, जिसके बाद पश्चिमी दिल्ली के विकास पुरी से सुमन लता (34) और ज्योति (33) को गिरफ्तार किया गया. इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक डीसीपी (साउथ वेस्ट) देवेंद्र आर्य ने बताया, ‘जब पुरानी नौकरी में अच्छा अप्रेजल नहीं मिला तो गैंग की कथित मुखिया सुमन ने हेल्थकेयर सर्विसेज बेचने के लिए फर्जी वेबसाइट्स बनाने का फैसला किया, ताकि लोगों को कम प्रीमियम पर इंश्योरेंस के नाम पर ठगा जा सके. वह पहले हेल्थकेयर सर्विसेज से जुड़े कॉल सेंटर में काम करती थी, जहां वह ज्योति से मिली.’

साभार आजतक 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *